मॉर्गेज लोन (mortgage loan) क्या है?

जिंदगी में कभी ना कभी कुछ ऐसे बड़े फैसले लेने पड़ते हैं जिनके लिए पैसे की जरूरत पड़ जाती है।ऐसे में इंसान करे तो करे क्या कभी किसी व्यापार के लिए, मकान खरीदने के लिए,या मकान बनाने के लिए, पढ़ाई के लिए, या शादी के लिए,या फिर किसी भी चीज के लिए लोन की जरूरत कभी ना कभी पड़ ही जाती है। ऐसे भी आप किसी भी बैंक या वित्तीय संस्था के द्वारा मोरगेज लोन ले सकते हैं।

mortgage loan in hindi

क्या आप जानते हैं mortgage loan होता क्या है? इस लोन को लेने के लिए क्या-क्या करना पड़ता है? यह किस प्रकार का लोन होता है? मॉर्गेज लोन के लिए किन-किन जरूरी दस्तावेजों की आवश्यकता पड़ती है? मोरगेज लोन पर लगने वाले ब्याज की दर क्या होती है? आइए जानते हैं इन सभी के बारे में विस्तार से आखिर क्या है यह मोरगेज लोन और क्यों लिया जाता है..

मॉर्गेज लोन का मतलब?

दोस्तों आप लोग जानते हो कि किसी भी प्रॉपर्टी के बदले मिलने वाला लोन या लोन अगेंस्ट प्रॉपर्टी क्या होता है?आज आपको इसके बारे में जानकारी बता रहे हैं।यह एक सिक्योर लोन होता है,और इसको मोरगेज लोन कहा जाता है। इसमें प्रॉपर्टी को किसी भी बैंक या लोन देने वाली वित्तीय संस्थान या फिर किसी कंपनी में आप अपनी किसी भी संपत्ति को गिरवी रख के उसके बदले पैसा लेते हैं। इसलिए इसको मोरगेज लोन कहा जाता है।

इस लोन के अंतर्गत आपकी संपत्ति के सभी कागजात और उन पर अधिकार बैंक के पास, कंपनी के पास या फिर जो भी फाइनेंशियल कंपनी है, उसके पास में दे दिया जाता है।जब आप लोन को पूरा भर देते हैं उसके बाद वापस से वह अधिकार आपको मिल जाता है। अर्थात सभी प्रॉपर्टी आपके नाम वापस ले कर दी जाती हैं।

क्या है mortgage loan की विशेषताएं

जब भी किसी संपत्ति के अगेंस्ट लोन लिया जाता है या लोन के लिए किसी भी बैंक या कंपनी में प्रॉपर्टी के अगेंस्ट आप लोन के लिए आवेदक करते है। उसमें कुछ खास विशेषताएं पाई जाती हैं जो कि अन्य प्रकार के बैंको से बहुत अलग होती है, आइए जानते हैं-

  • सबसे पहले आप सभी की जानकारी के लिए बता दें कि मोरगेज लोन एक सिक्योर्ड लोन माना जाता है। क्योंकि यह आपकी संपत्ति के आधार पर दिया जाता है।
  • इस लोन का उद्देश्य केवल व्यक्तित्व और व्यवसायिक दोनों तरह के पैसे की लेनदेन के लिए हो सकता है।
  • आप की प्रॉपर्टी के बदले मिलने वाली राशि आपको बाजार मूल्य से 60 से 80% के बीच में मिल जाती है।
  • संपत्ति के बदले लोन के लिए आपके पास में जो जमीन है वह आपके खुद के नाम होनी चाहिए।
  • बैंक के द्वारा आप की जमीन की भी पूरी तरह जांच की जाती है।
  • मॉर्गेज लोन में ब्याज की दर बहुत कम होती है।
  • जमानत के तौर पर आपकी संपत्ति बैंक में जब की जाती है अगर आप किसी कारणवश लोन नहीं भरते हो तो उसने बैंक पूरी तरह निश्चिंत हो जाता है क्योंकि बैंक के पास आप की जमीन बंधक रहती है।
  • मॉर्गेज लोन के अंतर्गत उसको भुगतान का समय 15 साल तक के लिए होता है। जिसके दौरान आप आराम से लोन भर सकते हो।

मोरगेज लोन के लिए कुछ खास जानकारी

मॉर्गेज लोन लेने के लिए जब भी कोई व्यक्ति अपनी संपत्ति के बदले पैसा लेता है, तो इसके लिए आपको किसी भी बैंक या वित्तीय संस्थान में आवेदन करना पड़ता है। सबसे पहले किसी भी जगह आवेदन करने से पहले कुछ खास बातों का ध्यान रखना बहुत जरूरी होता है। ताकि आपको कोई भविष्य में नुकसान ना हो आइए जानते हैं –

  • आपकी संपत्ति एक से अधिक लोगों के नाम पर है तो बैंक से मोरगेज लोन लेने के लिए उन सभी की सहमति भी माननी भी जरूरी होती है।
  • जब भी आप बैंक में लोन के लिए आवेदन करते हैं तो सबसे पहले आप अपनी संपत्ति का मार्केट में मूल्यांकन करने उसका बाजार में क्या मूल्य है और उसकी क्या हालात है उसके बाद ही आप बैंक में आवेदन करें।
  • संपत्ति को लोन के लिए गिरवी रखते हैं उसने आप बिना लोन चुकाए अपनी संपत्ति को किसी को भेज नहीं सकते है।
  • अगर किसी कारणवश आप लोन की किस्त समय पर नहीं छुपाते हो तो बैंक आप की प्रॉपर्टी को जप्त करके उसको बेचकर अपनी लोन की राशि वसूल कर लेता है यह अधिकार बैंक के पास होता है।

मोरगेज लोन के प्रकार

मॉर्गेज लोन कई प्रकार के होते हैं आइए जानते हैं

1. इक्विटेबल मॉर्गेजइस लोन के अंतर्गत जो भी हाउसिंग फाइनेंस कंपनियां होती है,वह आप की प्रॉपर्टी के सभी दस्तावेजों की सही तरीके से जांच करती है। उसके बाद अगर आप लोन के लिए आवेदन करते हो तो एक लोन एग्रीमेंट पर साइन करने के बाद में आपको लोन के लिए ऑफर कर देती है। और जो भी हाउसिंग फाइनेंस कंपनी होती है, वह ज्यादा दस्तावेजों की मांग नहीं करती है लेकिन बहुत सी कंपनियां ऐसी होती हैं जो आप की प्रॉपर्टी के दस्तावेजों की मांग करते हैं, उसके बाद ही लोन के लिए ऑफर करती हैं।

2. रजिस्टर्ड मॉर्गेजरजिस्टर्ड मॉर्गेज में आप लोन के लिए जब भी किसी बैंक या वित्तीय संस्थान में जाते हो तो आपकी प्रॉपर्टी को अथॉरिटी के साथ में जब्त किया जाता है। आप की प्रॉपर्टी पर मॉर्गेज रजिस्ट्रेशन पर लगने वाला चार्ज सरकारी आंकड़ों में भी दर्ज किया जाता है। इसीलिए इस लोन को लेने के लिए अधिकतर आवेदन करता रजिस्ट्रेशन चार्ज को भी लोन के दौरान भरते हैं।

3.usufructuary  मॉर्गेजयह इस तरह का लोन होता है कि इसमें बैंक के पास में आप की प्रॉपर्टी के ऊपर पूरा हक होता है यह लोन हमारे देश में बहुत कम दिया जाता है। अगर आप की प्रॉपर्टी किराए पर है और वह बैंक के पास गिरवी पड़ी है तो उसका किराया लेने का हक बैंक के पास ही होता है ना कि मकान के ऑनर के पास में। जब किराए के रूप में भी आपका लोन पूरा हो जाता है तो वापस से आप की प्रॉपर्टी मकान ऑनर के नाम पर कर दी जाती है।

मॉर्गेज का फुल हिंदी में अर्थ

मॉर्गेज का हिंदी में अर्थ बंधक होता है। इसमें बैंक के द्वारा आप की प्रॉपर्टी को बंधक बनाकर रखा जाता है। इसीलिए इसको मोरगेज कहा जाता है। बैंक के पास में अपनी जमीन के कागज गिरवी रख पैसा लेना इसका हिंदी में अर्थ होता है।

मोरगेज लोन से मिलने वाली राशि

दोस्तों आप सब की जानकारी के लिए एक चीज पहले ही बता देते हैं कि मोदी लोन एक सिक्योर लोन है अर्थात यह प्रॉपर्टी के अगेंस्ट मिलने वाला लोन होता है। इसमें आपको अपनी खाली जमीन या जिसमें आप रहते हो वह जमीन या फिर किसी भी प्रोपर्टी के कागजात बैंक के अंदर गिरवी रखकर आपको वहां से उस संपत्ति के मूल्य का जो पैसा मिलता है।

वही मोरगेज लोन होता है और मॉर्गेज लोन के अंतर्गत मिलने वाली राशि संपत्ति के कुल मूल्य की 85% से 90% का लोन बैंक के द्वारा दिया जाता है। इसको व्यक्ति अपनी जरूरत के समय किसी भी कार्य के लिए इस्लाम को लेकर उपयोग कर सकता है।

मॉर्गेज लोन पर लगने वाला ब्याज

जब भी हम किसी भी बैंक या एनबीएफसी संस्थान के अंतर्गत लोन के लिए आवेदन करते हैं तो वहां पर दो प्रकार के लोन होते हैं उनके हिसाब से ब्याज की दर निश्चित की जाती है एक non-secure नॉन होता है दूसरा अनसिक्योर्ड लॉन्स अब आपके ऊपर निर्भर करता है।

आप किस तरह का लोन ले रहे हो मोरगेज लोन एक सिक्योर्ड लोन है इसीलिए इस पर लगने वाली ब्याज की दर कम होती है क्योंकि इसमें सिक्योरिटी के रूप में आप की प्रॉपर्टी बैंक के पास में जमा होती है अनसिक्योर्ड लोन में कोई गारंटी नहीं होती है इसलिए उसमें ब्याज की दर ज्यादा होती है और किस लोन के अंतर्गत लगने वाला ब्याज 10% से लेकर 14% वार्षिक भरना पड़ता है इसके अलावा जीएसटी चार्जेस और 2% का प्रोसेसिंग चार्जेस भी व्यक्ति को लोन की राशि के साथ चुकाना पड़ता है। वेतन लेने वाले कर्मचारियों के लिए ब्याज की दर 10:00 से 11% तक की निश्चित की गई है।

अगर आपने किसी कारणवश कोई बैंक की ईएमआई नहीं चुकाई तो उसके ऊपर भी लेट पेमेंट का चार्जेस लगाया जाता है

मॉर्गेज लोन को भरने का समय

बैंक द्वारा कर्ज के रूप में दिया जाने वाला लोन को भरने का समय भी पहले ही निश्चित किया जाता है, क्योंकि यह लोन का अमाउंट बड़ा होता है इसलिए इसको भरने का समय भी अधिक होता है। मॉर्गेज लोन के अंतर्गत लगने वाला समय 2 साल से लेकर 20 साल तक का होता है। इसके अंतर्गत व्यक्ति को लोन भरना ही पड़ता है।

अगर आप चाहे तो पैसा एक साथ भी लोन भर सकते हैं। अगर आप चाहते हैं कि आप क्या बजट भी ना बिगड़े और पैसा आसानी से भुगतान हो जाए तो आप मासिक किस्तों के रूप में इस लोन की राशि को 20 साल के अंदर भर सकते हैं।

हम जब भी किसी से पैसा उधार लेते हैं या फिर बैंक के द्वारा लोन के रूप में पैसा लेते हैं तो उस पैसे को भरने का समय भी होता है अगर हम समय पर लोन का भुगतान नहीं करते हैं तो बैंक के द्वारा कार्रवाई भी की जा सकती है पहले वह लोग आप को नोटिस देकर सूचित करते हैं उसके बाद में आप ही रखी प्रॉपर्टी की नीलामी भी हो सकती है।

भारत में mortgage loan के प्रकार

हमारे देश में मॉर्गेज लोन विभिन्न प्रकार से दिए जाते हैं जिनकी जानकारी निम्न प्रकार से है-

  • प्रॉपर्टी पर लोन
  • घर खरीदने का निर्माण करने के लिए लोन
  • होम रिनोवेट करने के लिए प्रॉपर्टी लोन
  • कर्ज समेकन के लिए प्रॉपर्टी का लोन
  • शॉप के ऊपर लोन
  • मशीन पर लोन
  • शादी के लिए प्रॉपर्टी लोन

मोरगेज लोन लेने से नुकसान

मोरगेज लोन लेने के कुछ नुकसान भी हो सकते हैं आइए जानते हैं –

1. मोरगेज लोन व्यक्ति की प्रॉपर्टी और उसके वेतन के आधार पर भी दिया जाता है इसीलिए कोशिश करें आपको जब जरूरत हो या फिर जितना जरूरत हो उतना ही पैसा खर्च के रूप में ले नहीं तो आपकी किसी कारणवश नौकरी छूट जाने के बाद में रिकवरी प्रोसेस का सामना भी करना पड़ सकता है।

2. जब भी आप किसी प्रकार का मोरगेज लोन ले तो उसका बीमा अवश्य करवा लें। इससे आपको बहुत सहायता प्रदान हो जाएगी।

3. जब भी आप बैंक में मॉर्गेज लोन के लिए आवेदन करें तो जॉइंट होकर लोन को ले। इससे आपको लोन चुकाने में आसानी होगी तथा लोन को ईएमआई के रूप में ही भुगतान करें। आपको लोन पर ब्याज भी कम लगेगा और भुगतान भी आसानी से हो जाएगा।

4. मॉर्गेज लोन किसी कारणवश आप पूरा नहीं भर पाते हैं इससे आपके सिविल स्कोर पर बहुत गहरा प्रभाव पड़ सकता है। इसके अलावा जब तक आप उस बैंक के लोन को पूरा नहीं भरते थे आप किसी अन्य बैंक के साथ में अपना रिलेशन अच्छा नहीं बना पाओगे

मॉर्गेज लोन लेने के लिए योग्यता

मोरगेज लोन लेने के लिए मिलने योग्यताओं का होना बहुत जरूरी है

  • सबसे पहले व्यक्ति को भारत का नागरिक होना जरूरी है।
  • व्यक्ति की आयु 25 साल से अधिक 75 साल से कम की होनी चाहिए।
  • खुद का व्यवसाय हो या फिर व्यक्ति नौकरी पेशा हो।
  • मासिक आय 25000 या उससे अधिक की होनी चाहिए।

मोरगेज लोन के लिए इंश्योरेंस

आप इस प्रॉपर्टी के ऊपर मोरगेज लोन लेना चाहते हैं तो उस प्रॉपर्टी के मूल्य का कंप्रेसिव इंश्योरेंस बीमा जरूर करवाना चाहिए। क्योंकि यह बीमा आप की प्रॉपर्टी के किसी भी प्रकार के जोखिम को पूरा करने में आपको सहायता प्रदान करेगा इसीलिए बीमा जरूरी करवाएं।

मॉर्गेज लोन के लिए जरूरी दस्तावेज

दोस्तों आप सभी की जानकारी के लिए बता दें मॉर्गेज लोन एक सुरक्षित लोन होता है लेकिन इसमें भी कुछ महत्वपूर्ण कागजात की आवश्यकता पड़ती है। ज्यादा कागजातों की इसमें जरूरत नहीं पड़ती है, लेकिन कुछ कागज से जरूरी होने चाहिए आइए जानते हैं…

  • पैन कार्ड
  • आधार कार्ड
  • बैंक स्टेटमेंट
  • आइटीआर
  • एड्रेस प्रूफ
  • फोटो
  • प्रॉपर्टी के कागजात

मोरगेज लोन लेने के लिए आवेदन

मॉर्गेज लोन लेने के लिए आप ऑनलाइन ऑफलाइन दोनों ही तरीके से आवेदन कर सकते हैं।आज हमारे देश में बढ़ती हुई टेक्नोलॉजी के साथ-साथ सब कुछ कार्य ऑनलाइन तरीके से होने लग गए है। दूसरा कारण यह भी है कि आज संपूर्ण विश्व करोना महामारी से जूझ रहा है।

ऐसे में ऑनलाइन लोन लेकर सभी लोग अपनी जरूरत को पूरा कर सकते हैं। किसी भी प्रकार का लोन लेने के लिए ऑनलाइन आवेदन किया जा सकता है। सबसे पहले आपको बता दें कि मॉर्गेज लोन लेने के लिए अगर आप ऑफलाइन आवेदन करते हैं, तो आपको सभी दस्तावेजों के साथ में बैंक में जाना पड़ता है।

वहां पर आपको मॉर्गेज लोन के लिए आवेदन करना होगा। सभी कागजातों को उसमें सम्मिट करके बैंक के पास में आपको अपनी प्रॉपर्टी के कागजातों को भी गिरवी रखना होगा अर्थात बैंक के नाम अपनी प्रॉपर्टी के कागजातों को करना होगा।

उसके बाद सभी कागजातों की वेरिफिकेशन होने में 3 से 4 दिन का समय लग जाएगा। फिर आपके द्वारा दिए गए संपत्ति के कागजातों की सही जांच की जाएगी और उनका मार्केट मूल्य देखने के बाद ही आपको प्रॉपर्टी के बदले मॉर्गेज लोन मिल जाएगा।

इसके अलावा जब आप ऑनलाइन किसी भी बैंक या एनबीएससी संस्थान में मोरगेज लोन के लिए आवेदन करते हो तो बहुत कम एनबीएससी संस्थान होते हैं, जिनके द्वारा मोरगेज लोन मिलता है,लेकिन आप इंटरनेट के माध्यम से सर्च करके देख सकते हो और आप अपनी सुविधा के अनुसार किसी भी विश्वास वाली बैंक पर उनकी ऑफिशियल वेबसाइट पर जाकर लोन के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकते हो।

निष्कर्ष

आज हमने आपको इस आर्टिकल के द्वारा मॉर्गेज लोन क्या होता है। इसके बारे में पूरी जानकारी इसमें दी है।

उम्मीद है आपको हमारे द्वारा दी गई सभी जानकारियां पसंद आई होगी। अगर आप इससे जुड़े और भी जानकारियां चाहते हैं या फिर अन्य प्रकार का कोई सुझाव जानना चाहते हैं, तो आप हमारे कमेंट सेक्शन में जाकर कमेंट करके पूछ सकते हैं।

FAQ

मॉर्गेज लोन किस लिए लिया जाता है?

खुद के लिए व व्यापार के लिए

मोरगेज लोन किस प्रकार का लोन होता है?

सिक्योर लोन

मोरगेज लोन कितने प्रकार का होता है?

तीन प्रकार का

Read in English